April 18, 2024

किसानो की सहायता के लिए नाबार्ड दे रहीं हैं लोन पर 50% तक सब्सिडी, जाने कौन है इस लोन के लिए पात्र

NABARD Loan Yojana For Farmers: नाबार्ड(NABARD) का आपने भी कहीं ना कहीं नाम तो सुना ही होगा। ऊपर ऊपर से बताया जाए तो, नाबार्ड एक बैंक है और अन्य बैंकों की तुलना मे यह काफी अलग हैं। नाबार्ड सिर्फ ग्रामीण क्षेत्रों के लिए ही विभिन्न सहायता उपलब्ध करवाती है। आज हम आपको “नाबार्ड क्या है?” से लेकर “नाबार्ड से लोन” लेने तक की सम्पूर्ण जानकारी देने वाले हैं। शुरुआत करते हैं नाबार्ड के आस्तित्व से।

नाबार्ड(NABARD) क्या है?

केंद्र सरकार द्वारा स्थापित वित्तीय संस्था NABARD का पूरा नाम National Bank for agriculture and ruler development है। इस संस्था का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों की व्यवसाय से जुड़ी आर्थिक सहायता करना है। अगर आप सोच रहे हैं कि लोन तो, किसी अन्य बैंक से भी लिया जा सकता है फिर नाबार्ड मे क्या विशेष है? तो आपको बता दें कि नाबार्ड से मिलने वाले लोन की ब्याज दर कम, चुकाने का समय अधिक एवं अधिकतम 50% तक की सब्सिडी इसे अन्य बैंकों से काफी अलग बनाती है।

इन सभी विभिन्न कार्यो के लिए नाबार्ड देता है लोन –

नाबार्ड का मुख्य उद्देश्य ही ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों की सहायता करना है। ग्रामीण क्षेत्रों से जुड़े लगभग सभी कार्यो के लिए आप नाबार्ड से लोन ले सकते हैं। जिसमें पशुपालन, मत्स्यपालन, मुर्गीपालन और डेयरी उद्योग आदि के स्थापना एवं विस्तार के लिए नाबार्ड से लोन लिया जा सकता है। यहा विस्तार का मतलब यह है कि अगर आपके पास व्यवसाय पहले से ही स्थापित है, तो आप लोन के माध्यम से व्यवसाय को ओर अधिक बड़ा कर आय में इजाफा कर सकते हैं।

नाबार्ड से लोन के लिए पात्र लोग –

नाबार्ड ग्रामीण क्षेत्र के लगभग सभी लोगों को लोन देता है। हालाँकि आपकी आसानी के लिए हम आपको इस सूची के माध्यम से लोन के लिए पात्र लोगों की जानकारी देते है।

  1. किसान – किसान कृषि एवं खेतीबाड़ी से जुड़ी जरूरतों के अनुसार नाबार्ड से लोन ले सकता है। जिसमें कृषि यंत्र की खरीदारी शामिल हैं।
  2. पारंपरिक चरवाहे – ऊंट, भेड़ और बकरी सहित अन्य पारंपरिक चरवाहे भी नाबार्ड से मिलने वाले लोन के लिए पात्र हैं।
  3. महिलाए – महिलाओं के विकास के लिए नाबार्ड ग्रामीण क्षेत्र की सभी महिलाओं को विशेष छुट एवं सुविधाओं के साथ लोन देती है।
  4. अनुसूचित जाति एवं जनजाति – पिछड़ी जातियों के विकास के लिए भी नाबार्ड सभी अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों को लोन देती है।
  5. संगठन – ग्रामीण क्षेत्र में लोगों के संघटन भी नाबार्ड से लोन प्राप्त कर सकते हैं।

नाबार्ड से मिलने वाला लोन एवं सब्सिडी और चुकाने की अवधि –

नाबार्ड से लोन हेतू आपको पशु चिकित्सक या सहायक सृजन से संपर्क करना होगा। ये आपको लोन से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे। वही अगर सब्सिडी की बात की जाए तो, नाबार्ड लोन पर अलग अलग लोग विशेष के अनुरूप अलग अलग सब्सिडी देती है। नाबार्ड से लोन लेने पर 9 साल की लोन चुकाने की अवधि मिलती है, 9 साल मे लोन ना चुका पाने पर 2 साल की अतिरिक्त अवधि भी मिलती है।

Spread the love

dilkhush singh

Owner and Writter having interest in Agriculture, Technology and Auto sector.

View all posts by dilkhush singh →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इंदौर मंडी में फसलों के भाव ने किसानो को रातो रत किया मालामाल, देखिये इंदौर मंडी भाव मंदसौर मंडी में फसलों के भाव में भरी उछाल, देखिये ताजा रिपोर्ट मंदसौर मंडी में इन फसलों के भाव में सबसे ज्यादा तेजी इंदौर मंडी में इन फसलों के भाव में सबसे जयदा तेजी फरवरी के सभी फसलों लेटेस्ट और सटीक मंदसौर मंडी भाव